Posted by: Bagewafa | فروری 7, 2008

तुझे कीस तमन्नासे….. मुहम्मदअली वफा

jindan.jpg 

तुझे कीस तमन्नासे….. मुहम्मदअली वफा

करम कि जगह पर सितम देखतें हैं
अरे दोस्त ये कया जुलम देखतें हैं.

कभी चश्मे वीरांको नम होने देते
परीशांए झूल्फोंमे गम देखते हैं

तगाफुल तुमहारा हिमालय बनाहै
तुझे कीस तमन्नासे हम देखते हैं.

कोइ जब्र है कि फितरत तुम्हारी
हमारी तरफ तुम कम देखते हैं.

बदलना नही अब कोइ बेश पडता
खुली आंखसे हम भरम देखते हैं.

‘वफा’ हम तो गर्वीदा दीदार के थे
 है लानत जो तेरे कदम देख्ते हैं.

Dekhte haiN._Mohammedali’wafa’

Karam ki jagah par sitam dekhte haiN
Are dost ye kya julam dekhte haiN.

Kabhee chashme veeraaN ko num hone dete
parishaaNae zoolfome gum dekhte haiN.

Tagaful tumhara himalay bana hai
Tuze kis tamannase ham dekhte haiN.

Koi jabra hai ya ye feetrat tumhari
Hamaaree taraf tum kum dekhate haiN.

Badalana naheeN ab koi besh padtaa
Khuli aankhse hum bharam dekhte haiN.

‘vafa’ hum to garveeda dedara ke the
Hai lanat jot tere qadam dekhte haiN.

._Mohammedali’wafa (25th may2007)

तुज़्हे कीस तमन्नासे से हम देखते हैं._ महेफिले मुशायराकी तरफसे पेश किये गये मिसरे पर तरही गझल.

Advertisements

زمرے

%d bloggers like this: