Posted by: Bagewafa | ستمبر 24, 2015

दहशतगर्दी भी उन्हीं की है और इंसानियत के खिलाफ जंग भी उन्हीं की….. पलाश विश्वास

दहशतगर्दी भी उन्हीं की है और इंसानियत के खिलाफ जंग भी उन्हीं की….. पलाश विश्वास

Posted by: पलाश विश्वास 2015/08/12 in आजकल 0 Comments
दहशतगर्दी भी उन्हीं की है और इंसानियत के खिलाफ जंग भी उन्हीं की
इसीलिए हुजूर आधार निराधार
कत्लेआम प्रोजेक्ट नाटो का
आखिरकार काला जो इंसान है
जो सिरे से अछूत आदिवासी है
जो गैर नस्ली भूगोल है
जिनका कोई मजहब नहीं होता
मजहब सियासत है आखिर
दुनिया की सारी हुकूमतें कायनात के खिलाफ इस वक्त
दुनिया की सारी हुकूमतें इंसनियत के खिलाफ इस वक्त
दहशतगर्द दुनियाभर में पैदा करती हुकूमतें और
नफरतों का यह सिससिला भी उन्हींका करिश्मा
जांत पात या मजहब की छोड़ दो यारों,
यह सारा कारोबार रंगभेद है नस्ली
हिंदुस्तान को समझने के लिए पहले
अमेरिकी मंसूबों को जान लो और
उस जन्नत के हकीकत को जान लो
आफताब वहीं से सफेद है इसतरह
कि महजबीं की शामत है
कि आसमान में बादल खूब
छाये से नजर से नजर आवै तो क्या
अव्वल तो बरसते नहीं हैं और
जब बरसते है,कयामत ढाते हैं
इसी तरह हुजूर जमीन की गहराइयों से
होने लगी है अग्निवर्षा दसों दिशा
इसीलिए हुजूर आधार निराधार
कत्लेआम प्रोजेक्ट नाटो का
इसीलिए रेडियोएक्टिव सारे समुंदर
और इसी लिए तेलकुंओं में आग है
और इसी लिए दुनिया अब या तो
मुक्तबाजार है बेरहम खूनी या
फिर जंग है जमीन आसमान
और फिर पानियों में भी जंग है
जंग के खिलाफ अब अमेरिकी वह
आंदोलन खामोश है,खामोश सिरे से
चुप इंसानियत है, मिसाइलें बोल रही हैं
जैसे उनके एटम बम बोले हैं
सारे के सारे ईसाई है वहां पे
सारे के सारे मुसलमां अरब में
फिर भी इंसान हर कहीं कत्ल है
इसीलिए सदियों से चीखता रहा
सावधान, अमेरिका से सावधान
कोलंबस वास्कोडिगाम उनके हैं
हमारा किस्सा मोहनजोदड़ो
या फिर हड़प्पा है अगर तो
उनका किस्सा मध्य और लातिन अमेरिका
उनका किस्सा तबाह माया और इंका
नस्ली है अमेरिका तो समझो, हुकूमतें
सारी की सारी उसी तरह नस्ली है
दहशतगर्दी भी उन्हीं की है और इंसानियत
के खिलाफ जंग भी उन्हीं की है।
आखिरकार काला जो इंसान है
जो सिरे से अछूत आदिवासी है
जो गैर नस्ली भूगोल है
उनकी न जात है कोई असल
और न उनका कोई मजहब हुआ
हर मुल्क में वे मारे जाने वाले
लोग हैं, जो कभी साथ होते नहीं।
गौर करें कि आधार इंफोसिस का करतब है और गौरतलब है कि इंफोसिस के नतीजे अनुमान से बेहतर, आय 7% बढ़ी।
पलाश विश्वास

Advertisements

زمرے

%d bloggers like this: