Posted by: Bagewafa | دسمبر 21, 2017

उमर फारूक रदि. ने दुनिया को ऐसे सिस्टम दिए जो आज तक पूरी दुनिया में प्रचलित हैं….हिंन्दी वायरल न्युज

Masjide Aqsa

उमर फारूक रदि. ने दुनिया को ऐसे सिस्टम दिए जो आज तक पूरी दुनिया में प्रचलित हैं

June 11, 2017 इस्लाम

हमने बचपन में पढ़ा था सिकंदर 20 साल की उम्र में बादशाह बना। 23 साल की उम्र में अपने राज्य से निकला, उसने पहले पूरा ग्रीस पर विजय प्राप्त की, तब तुर्की में प्रवेश किया, फिर ईरान के दारा को हराया, फिर वह शाम पहुंचा, तो उसने यरूशलेम और बाबुल का रुख किया फिर वह मिस्र पहुँचा, फिर वह भारत आया, भारत में उसने पोरस से लड़ाई लड़ी, अपने प्रिय घोडे की जाने की याद में फालीह शहर बसा, मकरान से होता हुआ वापसी का सफर शुरू किया, रास्ते में टाइफाइड से पीड़ित हुआ और 323 ईसा पूर्व में 33 साल की उम्र में बख्त नस्र के महल में निधन हो गया था।

दुनिया को आज तक बताया गया, वह मानव इतिहास का महान जरनैल, विजेता और राजा था और इतिहास ने इस कारनामे की वजह से उसे अलेक्जेंडर द ग्रेट का नाम दिया और हमने उसे सिकंदर महान यानी राजाओं का राजा बना दिया, लेकिन आज इक्कीसवीं सदी में पूरी दुनिया के इतिहासकारों के सामने यह सवाल उठाता हूँ की उमर फारूक (रज़ीअल्लाह) के होते हुए क्या सिकंदर को एलेक्सजेंडर महान कहलाने का अधिकार है?

दुनिया भर के इतिहासकारों को सिकंदर महान और उमर फारूक रज़ीअल्लाह की जीत और उपलब्धियों की तुलना करने का निमंत्रण देता हूं, आप भी सोचिए सिकंदर राजा का बेटा था, उसे दुनिया का सबसे अच्छे लोगों ने घुड़सवारी सिखाई, उसे अरस्तू जैसे उस्तादों की सोहबत मिली थी और जब वह बीस साल का हो गया तो उसे सिंहासन और ताज पेश कर दिया गया, जबकि इसकी तुलना में उमर फारूक रज़ीअल्लाह की 7 पुश्तों में कोई राजा नहीं बीता था, ऊपर भेड़-बकरी और ऊंट चराते बड़े हुए थे और आप तलवार बाजी और तीरंदाजी भी एक अकादमी से नहीं सीखी थी।

सिकंदर महान ने आरगनाईज़ड सेना के साथ 10 वर्षों में 17 लाख वर्ग मील के क्षेत्र पर विजय प्राप्त था, जबकि उमर फारूक ने 10 वर्षों में आरगनाईज़ड आर्मी के बिना 22 लाख वर्ग मील के क्षेत्र पर विजय प्राप्त की जिसमे रोम और ईरान दो सुपर पावर भी शामिल थीं।

आज के उपग्रह, मिसाइल और पनडुब्बियों के दौर में भी दुनिया के किसी शासक के पास इतनी बड़ी सल्तनत नहीं है जो हज़रत उमर फ़ारूक़ रज़िअल्लाह ने न केवल घोड़े की पीठ पर विजय दिलाई थी, बल्कि प्रबंधन और नियम भी चलाया था, सिकंदर ने जीत के दौरान अपने अनगिनत जरनैल हत्या कराए, कई जनरलों और जवानों ने उसका साथ छोड़ दिया, उसके खिलाफ बगावतें भी हुईं और भारत में उसकी सेना ने आगे बढ़ने से इनकार भी कर दिया, लेकिन उमर फारूक रज़िअल्लाह के किसी साथी को आपके आदेश से सरताबी का साहस न हुआ।

वह ऐसे कमांडर थे कि आपने ही युद्धक्षेत्र में आलमे इस्लाम के सबसे बड़े सेनापति हज़रत खालिद बिन वलीद रज़ियल्लाहू अन्हू को अपदस्थ कर दिया और किसी को यह आदेश टालने की हिम्मत न हुई। आपने हज़रत साद बिन अबी वक़ास को कोफे के राज्यपाल से हटा दिया।

आपने हज़रत हैरिस बन काब रा से राज्यपाल वापस ले ली। आपने हज़रत अम्र बिन ालझस रा माल जब्त कर लिया और आपने हमस के राज्यपाल को वापस बुलाकर ऊंट चराने पर लगा दिया, लेकिन किसी को आदेश तोड़ने की हिम्मत न हुई।

अलेक्जेंडर 17 लाख वर्ग मील क्षेत्र विजय प्राप्त की, लेकिन दुनिया को कोई प्रणाली, कोई सिस्टम न दे सका, जबकि उमर फारूक रज़ ने दुनिया को ऐसे सिस्टम दिए जो आज तक पूरी दुनिया में प्रचलित हैं,

 सन हिजरी विज्ञप्ति किया।

 जेल की कल्पना दिया।

 मोज़नों के वेतन निर्धारित कीं

 मस्जिदों में प्रकाश प्रावधान कराया।

पोलीस विभाग बनाया।

 एक पूरी न्यायिक प्रणाली की स्थापना की।

 सिंचाई प्रणाली स्थापित कराया।

 सैन्य चखाोनियां बनवाई और सेना का नियमित विभाग की स्थापना की।

 आपने दुनिया में पहली बार दूध पीते बच्चों, विकलांगों, विधवाओं और बेसहारा के लिये वज़ीफ़ा निर्धारित किया।

 आप ने दुनिया में पहली बार शासकों, सरकारी अधिकारियों और समुद्री मील की संपत्ति घोषित करने का दर दिया।

 आप ने अन्याय करने वाले जजों को सजा देने का सिलसिला भी शुरू

 किया |

 आप ने दुनिया में पहली बार शासक वर्ग एकाउंटेबिलिटी शुरू की।

 अप रातों में वाणिज्यिक काफिलों की चौकीदारी करते थे।

 अप कहा करते थे जो शासक न्याय करते हैं, वे रात को बेखौफ सोते हैं।

 उमर का फरमान था ” राष्ट्र का प्रधान राष्ट्र का सच्चा सेवक होता है। ”

आप की मुहर पर लिखा था

” उमर! नसीहत के लिए मौत ही काफी है। ”

 उमर की मेज पर कभी दो सालन नहीं रखे गए।

 जमीन पर सिर के नीचे ईंट रख कर सो जाते थे।

 अप यात्रा के दौरान जहां नींद आ जाती थी, ऊपर एक दरख्त पर चादर तान कर छाया करते थे और सो जाते

 थे और रात नंगे जमीन पर दराज जाते थे।

 आप के कुर्ते पे14 पैबंद थे और उनमें से एक लाल चमड़े का प्रत्यारोपण भी था। ऊपर मोटा नालीदार कपड़ा पहनते थे। आप नरम और ठीक कपड़े से नफरत थी।

 आप किसी को जब सरकारी पद पर थे तो उसकी संपत्ति का अनुमान लगवा कर अपने पास रख लेते थे और अगर सरकारी पद के दौरान इस संपत्ति में वृद्धि हो जाती तो आप उसकी अकाोनटबलटी करते थे।

 अप जब किसी को राज्यपाल बनाते तो उसे नसीहत फरमाते थे।

 कभी तुर्की घोड़े पर न बैठना, पतले कपड़े न पहनें, चखना हुआ आटा न खाना, दरबान न रखना और किसी फरियादी दरवाजा बंद न करना।

 कहते थे की ज़ालिम को माफ कर देना मज़लूमों पर अत्याचार है।

 आपका यह वाक्य आज मानव अधिकारों के चार्टर की हैसियत रखता है। “मां बच्चों को आज़ाद पैदा करती हैं, लोगों ने उन्हें कब से गुलाम बना लिया।”

 कहा, मैं अक्सर सोचता हूँ और हैरान होता हूँ। “उमर बदल कैसे गया। ”

 अप इस्लामी दुनिया के पहले खलीफा थे, जिन्हें ” अमीरुल मोमिनीन ” का खिताब दिया गया।

दुनिया के सभी धर्मों की कोई न कोई विशेषता है, * इस्लाम की सबसे बड़ी विशेषता न्याय और उमर फारूक

 उमर शहादत के समय कर्ज़दार थे, इसलिए अपनी इच्छा के अनुसार अपने ही मकान बेचकर क़र्ज़ भुगतान कर दिया गया और आप दुनिया के एकमात्र शासक थे जो कहा करते थे मेरे दौर में अगर महानदी के किनारे कोई कुत्ता भी भूख से मर गया तो उसकी सजा उमर (हज़रत उमरफारूक) को भुगतना होगा।

दुनिया भर के इतिहासकारों को निमंत्रण देता हूं, वह सिकंदर को उमर फारूक के सामने रख कर देखें उन्हें सिकंदर का कार्य उमर फारूक के पवित्र पर्वत के सामने कंकड़ दिखाई देगा, क्योंकि सिकंदर की बनायीं साम्राज्य उसकी मौत के 5 साल बाद खत्म हो गई * जबकि उमर फारूक ने अपने कार्यकाल में जिस जिस क्षेत्र में इस्लाम का झंडा भिजवाया, वहाँ आज भी अल्लाह अकबर अल्लाह अकबर के आवाज़ आती हैं, वहां आज भी लोग अल्लाह के सामने सजदा करते हैं।

दुनिया में सिकंदर का नाम सिर्फ किताबों में सिमट कर रह गया है, जबकि उमर फारूक की बनायी प्रणाली दुनिया के 245 देशों में आज भी किसी न किसी रूप में मौजूद हैं।

आज भी जब किसी डाकख़ाने से कोई पत्र निकलता है, पुलिस का कोई सिपाही वर्दी पहनता है, कोई सैन्य जवान 6 महीने बाद छुट्टी पर चला जाता है या फिर सरकार किसी बच्चे, विकलांग, विधवा या बेसहारा व्यक्ति को वज़ीफ़ा देती है तो वह समाज वे सोसायटी, शक्तिहीन उमर फारूक रा को महान पहचानता है, वह उन्हें इतिहास का सबसे बड़ा सिकंदर मान लेती है, सिवाय उन मुसलमानों के जो आज हीन भावना से ग्रसित कलमा तक पढ़ने से पहले दायं बाएं देखते हैं।

हम आज भी यह भूल गए हैं कि हम एक उमर फारूक भी थे, जिनके बारे में पैगंबर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया था :- ”मेरे बाद किसी नबी होता तो वह उमर होता”.

(हिंन्दी वायरल न्युज)

Advertisements

زمرے

%d bloggers like this: