Posted by: Bagewafa | جولائی 19, 2018

हम तुम्हें मरने न देंगे — गोपालदास "नीरज”

हम तुम्हें मरने न देंगे — गोपालदास "नीरज”

 

काव्य पाठ करते हुए नीरज

उपनाम:

‘नीरज’

जन्म:

04 जनवरी 1925

ग्राम पुरावली, जिला इटावा, उत्तर प्रदेश, भारत 

मृत्यु:

जुलाई 19, 2018

एम्स ,नई दिल्ली

कार्यक्षेत्र:

कवि सम्मेलन,

लगभग 50 वर्षों काव्य मंचों पर काव्य पाठ 

राष्ट्रीयता:

भारतीय

भाषा:

हिन्दी

काल:

बीसवीं शताब्दी

विधा:

गद्य, पद्य, गीत

विषय:

गीतकार, फ़िल्म

साहित्यिक

आन्दोलन:

काव्य मंचों पर साहित्यिक रचना की प्रस्तुति

प्रमुख कृति(याँ):

दर्द दिया है (पुरस्कृत), आसावरी (सचित्र),

मुक्तकी (सचित्र), लिख-लिख भेजत पाती (पत्र संकलन)

पन्त-कला, काव्य और दर्शन (आलोचना)

हम तुम्हें मरने न देंगे — गोपालदास "नीरज”

.

धूल कितने रंग बदले डोर और पतंग बदले

जब तलक जिंदा कलम है हम तुम्हें मरने न देंगे

.

खो दिया हमने तुम्हें तो पास अपने क्या रहेगा

कौन फिर बारूद से सन्देश चन्दन का कहेगा

मृत्यु तो नूतन जनम है हम तुम्हें मरने न देंगे।

.

तुम गए जब से न सोई एक पल गंगा तुम्हारी

बाग में निकली न फिर हस्ते गुलाबों की सवारी

हर किसी की आँख नम है हम तुम्हें मरने न देंगे

.

तुम बताते थे कि अमृत से बड़ा है हर पसीना

आँसुओं से ज्यादा कीमती है न कोई नगीना

याद हरदम वह कसम है हम तुम्हें मरने न देंगे

.

तुम नहीं थे व्यक्ति तुम आजादियों के कारवाँ थे

अमन के तुम रहनुमा थे प्यार के तुम पासवाँ थे

यह हकीकत है न भ्रम है हम तुम्हें मरने न देंगे

.

तुम लड़कपन के लड़कपन तुम जवानो की जवानी

सिर्फ दिल्ली ही न हर दिल था तुम्हारी राजधानी

प्यार वह अब भी न कम है हम तुम्हें मरने न देंगे

.

बोलते थे तुम न तुममें बोलता था देश सारा

बस नहीं इतिहास ही तुमने हवाओं को सवाँरा

.आज फिर धरती नरम है हम तुम्हें मरने न देंगे

Advertisements

جواب دیں

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

آپ اپنے WordPress.com اکاؤنٹ کے ذریعے تبصرہ کر رہے ہیں۔ لاگ آؤٹ /  تبدیل کریں )

Google+ photo

آپ اپنے Google+ اکاؤنٹ کے ذریعے تبصرہ کر رہے ہیں۔ لاگ آؤٹ /  تبدیل کریں )

Twitter picture

آپ اپنے Twitter اکاؤنٹ کے ذریعے تبصرہ کر رہے ہیں۔ لاگ آؤٹ /  تبدیل کریں )

Facebook photo

آپ اپنے Facebook اکاؤنٹ کے ذریعے تبصرہ کر رہے ہیں۔ لاگ آؤٹ /  تبدیل کریں )

Connecting to %s

زمرے

%d bloggers like this: