Posted by: Bagewafa | ستمبر 23, 2019

सबसे ख़तरनाक……पाश

सबसे ख़तरनाक……पाश

मेहनत की लूट सबसे ख़तरनाक नहीं होती

 पुलिस की मार सबसे ख़तरनाक नहीं होती

 ग़द्दारी और लोभ की मुट्ठी सबसे ख़तरनाक नहीं होती

 बैठे-बिठाए पकड़े जाना बुरा तो है

 सहमी-सी चुप में जकड़े जाना बुरा तो है

 सबसे ख़तरनाक नहीं होता

 कपट के शोर में सही होते हुए भी दब जाना बुरा तो है

 जुगनुओं की लौ में पढ़ना

 मुट्ठियां भींचकर बस वक्‍़त निकाल लेना बुरा तो है

 सबसे ख़तरनाक नहीं होता

 सबसे ख़तरनाक होता है मुर्दा शांति से भर जाना

 तड़प का न होना

 सब कुछ सहन कर जाना

 घर से निकलना काम पर

 और काम से लौटकर घर आना

 सबसे ख़तरनाक होता है

 हमारे सपनों का मर जाना

 सबसे ख़तरनाक वो घड़ी होती है

 आपकी कलाई पर चलती हुई भी जो

 आपकी नज़र में रुकी होती है

 सबसे ख़तरनाक वो आंख होती है

 जिसकी नज़र दुनिया को मोहब्‍बत से चूमना भूल जाती है

 और जो एक घटिया दोहराव के क्रम में खो जाती है

 सबसे ख़तरनाक वो गीत होता है

 जो मरसिए की तरह पढ़ा जाता है

 आतंकित लोगों के दरवाज़ों पर

 गुंडों की तरह अकड़ता है

 सबसे ख़तरनाक वो चांद होता है

 जो हर हत्‍याकांड के बाद

 वीरान हुए आंगन में चढ़ता है

 लेकिन आपकी आंखों में

 मिर्चों की तरह नहीं पड़ता

 सबसे ख़तरनाक वो दिशा होती है

 जिसमें आत्‍मा का सूरज डूब जाए

 और जिसकी मुर्दा धूप का कोई टुकड़ा

 आपके जिस्‍म के पूरब में चुभ जाए

 मेहनत की लूट सबसे ख़तरनाक नहीं होती

 पुलिस की मार सबसे ख़तरनाक नहीं होती

 ग़द्दारी और लोभ की मुट्ठी सबसे ख़तरनाक नहीं होती ।


جواب دیں

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

آپ اپنے WordPress.com اکاؤنٹ کے ذریعے تبصرہ کر رہے ہیں۔ لاگ آؤٹ /  تبدیل کریں )

Google photo

آپ اپنے Google اکاؤنٹ کے ذریعے تبصرہ کر رہے ہیں۔ لاگ آؤٹ /  تبدیل کریں )

Twitter picture

آپ اپنے Twitter اکاؤنٹ کے ذریعے تبصرہ کر رہے ہیں۔ لاگ آؤٹ /  تبدیل کریں )

Facebook photo

آپ اپنے Facebook اکاؤنٹ کے ذریعے تبصرہ کر رہے ہیں۔ لاگ آؤٹ /  تبدیل کریں )

Connecting to %s

زمرے

%d bloggers like this: