Posted by: Bagewafa | مارچ 31, 2020

कोई उम्मीद बर नहीं आती……गालिब

कोई उम्मीद बर नहीं आती……गालिब

कोई उम्मीद बर नहीं आती

कोई सूरत नज़र नहीं आती

.

मौत का एक दिन मुअय्यन है

नींद क्यूँ रात भर नहीं आती

.

आगे आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी

अब किसी बात पर नहीं आती

.

जानता हूँ सवाब-ए-ताअत-ओ-ज़ोहद

पर तबीअत इधर नहीं आती

.

है कुछ ऐसी ही बात जो चुप हूँ

वर्ना क्या बात कर नहीं आती

.

क्यूँ न चीख़ूँ कि याद करते हैं

मेरी आवाज़ गर नहीं आती

.

दाग़-ए-दिल गर नज़र नहीं आता

बू भी ऐ चारागर नहीं आती

.

हम वहाँ हैं जहाँ से हम को भी

कुछ हमारी ख़बर नहीं आती

.

मरते हैं आरज़ू में मरने की

मौत आती है पर नहीं आती

.

काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’

शर्म तुम को मगर नहीं आती


جواب دیں

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

آپ اپنے WordPress.com اکاؤنٹ کے ذریعے تبصرہ کر رہے ہیں۔ لاگ آؤٹ /  تبدیل کریں )

Google photo

آپ اپنے Google اکاؤنٹ کے ذریعے تبصرہ کر رہے ہیں۔ لاگ آؤٹ /  تبدیل کریں )

Twitter picture

آپ اپنے Twitter اکاؤنٹ کے ذریعے تبصرہ کر رہے ہیں۔ لاگ آؤٹ /  تبدیل کریں )

Facebook photo

آپ اپنے Facebook اکاؤنٹ کے ذریعے تبصرہ کر رہے ہیں۔ لاگ آؤٹ /  تبدیل کریں )

Connecting to %s

زمرے

%d bloggers like this: